शनिवार, 20 मार्च 2010

बांहों में भर ले बलम हरजाई




जाड़े का मौसम, छोटी रजाई

बांहों में भर ले बलम हरजाई



ननद निगौड़ी बाज़ न आए

दरवज्जे पर कान लगाए

सरका दे खटिया,

बिछाले चटाई .............
बांहों में भर ले ...........



तू मेरा राजा, मैं तेरी रानी

अब काहे की आना-कानी

काहे का डर

मैं हूँ तेरी लुगाई .........
बांहों में भर ले ..........



मेरे दिल का दरद न जाने

मैं जो कहूँ तो बात न माने

बाबुल ने ढूँढा है

कैसा जमाई ..................
बांहों में भर ले ............



तेरे ही नाम की बिन्दिया-काजल

झुमका , कंगना,बिछुआ,पायल

तेरे ही नाम की

मेंहदी रचाई ..............
बांहोंमें भर ले ..............



अपना हो के यूँ न सज़ा दे

प्यासी हूँ मैं मेरी प्यास बुझा दे

मर जाऊंगी वरना

राम दुहाई ....................
बांहों में भर ले.................












www.albelakhatri.com




7 टिप्‍पणियां:

  1. क्या गजब का अंदाज है .. भैय्या आल इज वेळ

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. "एक तेल की बोतल भी साथ रख ले साजना वर्ना भीतर कैसे जायेगा तेरा ..."

    ये लाइन भी इसमें जोड़ लें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत तो बहुत ही सुन्दर है!
    मगर क्या करें?
    अब तो गर्मी पड़ने लगी है!
    गर्मी के लिए भी कुछ उपाय बताइए ना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब...बढ़िया अंदाज और मजेदार रचना...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक नए अंदाज़ में आपने शानदार और लाजवाब रचना लिखा है! बहुत बहुत सुन्दर! इस उम्दा रचना के लिए ढेर सारी बधाइयाँ !

    उत्तर देंहटाएं