शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2010

रिश्ते में तो हम हिन्दी के बेटे हैं और नाम है माणिक मृगेश


आइये मित्रो !


आज मैं आपको मिलवाता हूँ एक ऐसे महान हिन्दी सेवक से

जिनकी पूरी की पूरी जीवनचर्या अपने दैनंदिन रिदम के साथ

लगातार हिन्दी भाषा और हिन्दी साहित्य को समृद्ध करने में

जुटी है


अनेकानेक सम्मान और पुरस्कार प्राप्त यह हस्ती पिछले दिनों

एक और बड़े सम्मान से सम्मानित हुई आइये अपनी बधाइयों

और मंगल कामनाओं के साथ मिलें इण्डियन आयल में सतत

सेवारत, बड़ौदा निवासी एक ज़बरदस्त कलमकार डॉ माणिक

मृगेश जी से.........................



hidi sahitya,kavi sammelan, all indiya hindi kavi sammelan,akhil bhartiya kavi sammelan, manik mrigesh, baroda
















akhil bhartiya kavisammelan,dr manik mrigesh,nayi soch,indian oil,albela khatri
manik mrigesh,mrigeshayan,albela khatri,hindi kavita










indian oil,hindi kavisammelan,dr manik mrigesh,nayi soch,www.albelakhatri.com, samman,mrigeshaayan

3 टिप्‍पणियां:

  1. डॉ माणिक मृगेश जी से परिचय कराने का आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ माणिक मृगेश जी से परिचय कराने का आभार और उन्हें बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं