गुरुवार, 21 जनवरी 2010

मेरा तेवर - मेरा ज़ेवर



मशक्कत


मेरा तेवर है


ज़ुर्रत

मेरा ज़ेवर है


मैं इन्हें बदरंग नहीं होने दूंगा


प्रयास

लाख असफल हों

मेरे



पर

उत्साह भंग नहीं होने दूंगा

www।albelakhatri.com


4 टिप्‍पणियां:

  1. उत्साह बनाये रखना सबसे जरुरी है, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Lagta hai ye kavita bhi ek seekh hi hai mere liye... ek naseehat hai aapki taraf se.. Albela sir aapke prem aur sapport se hi sambhav ho paya hai ki aaj pichhle 2 din se kahin jata swasth hoon.. jaldi hi poornroopen changa ho jaunga..Aapne apne ati vyast samay me se mere liye samay nikaal liya ye kisi tohfe se kam nahin.. aapke sneh ka Aabhari hoon
    Jai Hind...

    उत्तर देंहटाएं
  3. " bahut hi badhiya ...bahut hi acchi sikh mili hume ."

    ------ eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. "उत्साह भंग नहीं होने दूंगा"
    विल्कुल सही है!
    यही उत्साह तो हमें जीने की प्रेरणा देता है!

    उत्तर देंहटाएं