गुरुवार, 7 जनवरी 2010

जीने की जो चाह है तो मौत से भी नेह कर




रात न ढले तो कभी



भोर नहीं होती बन्धु


सांझ न ढले तो कभी तम नहीं होता है




लोहू तो निकाल सकता


तेरे पाँव में से


कांच से मगर घाव कम नहीं होता है




जीने की जो चाह है तो


मौत से भी नेह कर


डरते हैं वो ही जिनमें दम नहीं होता है




सच मानो जब तक


पीर का काग़ज़ न हो


कवि की कलम का जनम नहीं होता है




6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया!!!


    सच मानो जब तक
    पीर का काग़ज़ न हो
    कवि की कलम का जनम नहीं होता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है! जो मौत से नेह नहीं लगा सकता वह जिंदगी से भी नेह नहीं लगा सकता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह साब डरते वो है जो दम नहीं रखते ..सत्य वचन महाराज जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीने की जो चाह है तो


    मौत से भी नेह कर


    डरते हैं वो ही जिनमें दम नहीं होता है
    सचमुच जोश भरने वाली पंक्तियाँ है !!! लाजवाब!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर एक पंक्तियाँ सच्चाई बयान करती है! बहुत सुन्दर लगा!

    उत्तर देंहटाएं