शनिवार, 7 नवंबर 2009

अपनी लाज बचाने के लिये आत्मघात कर रही हैं




( सूरत में घटी एक शर्मनाक घटना पर )


पत्तियाँ


गुलाब

की

कुछ

यूँ

झर

रही

हैं



मानो

कमसिन

किशोरियां

अपनी

लाज

बचाने

के

लिए

आत्मघात

कर

रही

हैं

-अलबेला खत्री

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब अलबेला जी,कम शब्दों में गहरी बात दिल को छू गई....बधाई...

    डा.रमा द्विवेदी

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम शब्दो मे आप बहुत कुछ कह गये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. dear albella khatri i read your blog this is nice write more and more byee...
    you are most welcome on http://www.aaina-e-waqt.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. kya baat hai!bahut khoob albelaji!akdam sakar chitra.aapki kalpna ko naman.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut kam shabdon men piida kii atyant sashakt abhivyaktii kii hai.Aap vastav men albela hain.
    JAI HO.

    उत्तर देंहटाएं