शुक्रवार, 6 नवंबर 2009

रात बहुत लम्बी है लेकिन कट ही जायेगी .........


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी



सन्नाटे के सीने में तूफ़ान छिपा है

दर्द के दिल में खुशियों का सामान छिपा है


अंधियारे के आँचल से सूरज निकलेगा

काँटों के साए में फिर से फूल खिलेगा

रात बहुत लम्बी है लेकिन कट ही जायेगी

फिर सुबह आएगी........

फिर सुबह आएगी........


अलबेला खत्री

12 टिप्‍पणियां:

  1. Ye huii na koii jordar bat. Ab mili mere dil ko thandak.
    Fir subah ayegii.........
    Fir subah ayegii.........
    Nishchit hii fir subah ayegii.
    Shayad ane hii valii hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका यह रूप आप के अनेक साहित्यिक रूपों में अधिक सलोना है
    काँटों के साए में फिर से फूल खिलेगा,
    प्रकृति सदा-धूप-छांह,गुल-खार,सुख-दुख,प्रकाश-अंधकार,पुरूष-स्त्री को साथ रखकर हमें तसल्ली देना चाहती है कि हम निराश न हो-और यही थ्योरी ऑफ़ रिलेटिविटी भी है
    श्याम सखा श्याम

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंधियारे के आँचल से सूरज निकलेगा
    काँटों के साए में फिर से फूल खिलेगा...
    वाह बहुत सुंदर कविता! छोटी सी प्यारी सी इस कविता ने तो दिल को छू लिया! रोज़ नई सुबह आती है नया रंग लेकर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. रात बहुत लम्बी है लेकिन कट ही जायेगी

    फिर सुबह आएगी........ बिलकुल !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आशावादी सुंदर रचना ......किसी ने कहा भी है -
    रात जितनी ही संगीन होगी ,
    सुबह उतनी ही रंगीन होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आशा ही आलम्ब है .......अज्ञात का भय सोख लेती है आशा की एक छोटी किरण ........निश्चित ही फिर सुबह आयेगी .....!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंधियारे के आँचल से सूरज निकलेगा
    काँटों के साए में फिर से फूल खिलेगा

    यही उम्मीद तो मानवता की ताक़त है. सुन्दर रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच कहा है
    बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .
    कृपया मेरे भी ब्लागस देखे और टिप्पणी दे
    http://manoj-soni.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  9. " khubsurat ...bahut hi badhiya rachana .."

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं